Home Sports क्रिकेट के वे रिकार्ड जिनको तोड़ पाना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन है...

क्रिकेट के वे रिकार्ड जिनको तोड़ पाना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन है !

0
5

वैसे तो भारत का राष्ट्रीय खेल हॉकी है लेकिन लोगों के मन में जो जुनुन और दिवानगी क्रिकेट के लिये है वैसी किसी और खेल के लिये नहीं है। दुनिया में तेजी से क्रिकेट की खुमारी बढती जा रही है। भारत में भी इन दिनों विश्व की सबसे चर्चित क्रिकेट सीरिज आईपीएल हो रही है जिसमें दुनिया के सबसे धुरंधर खिलाडी खेल रहे है। क्रिकेट के मैदान में रोजाना रिकार्ड बनते और टूटते है। भारत के भी कुछ खिलाडी है जिनके नाम आज कई रिकार्ड है। इनमें से कुछ रिकार्ड तो ऐसे है जिन्हें तोडना बहुत ही मुश्किल है आईये जानते है क्रिकेट इतिहास के कुछ ऐसे ही रिकार्ड्स।

सबसे अधिक रन
भारत के महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर जिन्हें क्रिकेट का भगवान भी कहा जाता है उनके नाम सबसे अधिक अंर्तराष्ट्रीय रन बनाने का रिकार्ड दर्ज है। सचिन ने वनडे और टैस्ट क्रिकेट कैरियर में 34357 रन बनाये है। सचिन ने 24 साल के अपने क्रिकेट कैरियर में वनडे और टैस्ट के कुल 664 मैचों में वनडे में 18426 रन और वनडे में 15921 रन बनाये है। सचिन के इस रिकार्ड को तोड पाना आज के खिलाडियों के लिये मुश्किल होगा।

सबसे अधिक सेंचूरी
सचिन का मतलब ही रिकार्ड है वे दुनिया के एकमात्र बल्लेबाज है जिन्होनें अर्तराष्ट्रीय क्रिकेट में 100 सेंचूरी मारी है। किसी भी खिलाडी के लिये ये एक सपने का जैसा है। सचिन के बाद दूसरे नंबर पर है रिकी पोटिंग जिनके नाम 71 सेंचूरी दर्ज है। अब आप इससे ही अंदाजा लगा सकते है कि उनका यह रिकार्ड तोड पाना कितना मुश्किल है।

सबसे अधिक औसत
लंबे समय तक क्रिकेट पर राज करने वाले सर डॉन ब्रेडमैन को क्रिकेट का सर्वकालिक महान बल्लेबाज कहा जाता है। सर डॉन ब्रेडमैन ने अपने क्रिकेट कैरियर में 52 टैस्ट खेले जिसमें उन्होनें 99.94 की औसत से 6996 रन बनाये। उनके निकटतम प्रतिद्वंदी सचिन तेंदुलकर ने भी 54.17 की औसत से रन बनाये।

सबसे अधिक विकेट
श्रीलंका के मुथैया मुरलीधरन और आस्ट्रेलिया के शेन वार्न को दुनिया के सबसे महान स्पिन गेंदबाज कहा जाता है। लेकिन विकेट लेने के मामले में मुरलीधरन ने शेन वार्न को काफी पीछे छोड दिया। मुरलीधरन के नाम टैस्ट क्रिकेट में 800 और वनडे में 534 विकेट दर्ज है। इस हिसाब से उनके अर्तराष्ट्रीय क्रिकेट में 1347 विकेट दर्ज है। दूसरे नंबर पर उनके प्रतिद्वंदी रहे शेन वार्न है जिनके अर्तराष्ट्रीय क्रिकेट में 1001 विकेट दर्ज है।

एक टैस्ट मैच में सबसे अधिक विकेट
इंग्लैड के खिलाडी जिम लेकर ने भी एक ऐसा रिकार्ड बनाया था जो कई दशकों बाद तक आज भी कायम है। जिम लेकर ने आस्ट्रेलिया के खिलाफ 1954 में खेले गये एक टैस्ट मैच में 19 विकेट लिये। पहली पारि में उन्होनें 9 विकेट लिये और अगली पारी में 10 विकेट लेकर यह कारनामा कर दिखाया।

सबसे अधिक प्रथम श्रेणी शतक
जैक हॉब्स के नाम प्रथम श्रेणी क्रिकेट में सबसे अधिक शतक दर्ज है। जैक हॉब्स ने 199 शतक लगाये। उन्होनें 50.70 की औसत से 61760 रन बनाये। उनके इस रिकार्ड को तोडना नामुमकिन जैसा है।

सबसे अधिक प्रथम श्रेणी विकेट
विल्फ्रेड रोड्स इंग्लैड के खिलाडी थे। वो एकमात्र ऐसे खिलाडी थे जिन्होनें प्रथम श्रेणी क्रिकेट में 4000 विकेट हासिल किये और 40,000 रन बनाये। उन्होनें इस रिकार्ड को पाने के लिये केवल 500 मैच ही खेले थे।

 

सबसे लंबा क्रिकेट कैरियर
आज के समय में एक से एक बढिया खिलाडी चयन के लिये कतार में खडे है यही वजह है कि अच्छा खेलने का दबाव होता है प्रदर्शन खराब होते ही टीम से बाहर कर दिया जाता है। आजकल क्रिकेट खिलाडियों का कैरियर हद से हद 10 से 12 साल तक चलता है। लेकिन विल्फ्रेड रोड्स का कैरियर 30 साल चला। अगर उस समय विश्वयुद्ध नहीं होता तो यह और भी लंबा चलता।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here