कहीं तुम भी न बन जाना किरदार किसी किताब का

0
83

कहीं तुम भी न बन जाना

किरदार किसी किताब का,

लोग बड़े शौक से पढ़ते है

कहानिया बेवफाओं की

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here